Friday, March 25, 2022

साधारण ज़िंदगी का असाधारण कवि : हलधर नाग

 

हाथों में कोई कागज़ नहीं और न ही कोई किताब, लेकिन जब वह कोसली में काव्य पाठ करते हैं, तो गैरभाषी भी उनके सम्मोहन में बंधे रह जाते हैंविलक्षण मेधा और अद्भुत स्मृति से भरे उड़ीसा के प्रसिद्ध कवि हलधर नाग का परिचय संघर्षों से जूझते उस सुखद ठहराव का नायाब उदाहरण है, जो न सिर्फ़ साहित्यिक बल्कि जीवन से जुड़े हर चरित्र को प्रेरणा देता है। वर्ष २०१६ में पद्मश्री जैसा प्रतिष्ठित सम्मान लेने पहुँचे इस साधारण व्यक्ति को देखकर सभी लोग एक बारगी हैरान हो गए कि घुँघराले काले बाल, नंगे पैर, सफेद धोती में लिपटा सादगी और सरलता से भरा यह व्यक्तित्व आखिर है कौन? लेकिन यहाँ तक पहुँचने की तमाम कहानियों के बीच उनकी प्रतिभा और सम्मान का विस्तार सहजता से पढ़ा जा सकता था। उड़ीसा के संबलपुर से लगभग ७६ किमी दूर बरगढ़ ज़िले के घेंस गाँव में ३१ मार्च १९५० को हलधर का जन्म हुआ। घेंस गाँव का अपना एक अविस्मरणीय इतिहास था। इस गाँव के ज़मींदार माधो सिंह और उनके चारों बेटों ने वीर सुरेंद्र साय के सशक्त स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेते हुए शहादत दी थी। इसी गाँव में सामाजिक कार्यक्रमों में कौवर में पानी देने वाले एक साधारण परिवार में जन्में हलधर, पाँच भाई-बहनों में सबसे छोटे थे। वक्त के साथ-साथ आर्थिक अभाव से बुरी तरह जूझता उनका परिवार बुरी तरह से छिन्न-भिन्न हो चुका था। जब वह दस वर्ष के थे, तभी सिर से पिता का साया छिन गया। दुर्भाग्यवश कुछ ही समय बाद उनकी माँ भी चल बसीं। हलधर अनाथ हो गए।


हर ओर से निराश हलधर को पेट पालने के लिए कुछ समय तक एक परिचित की मिठाई की दुकान पर बर्तन तक धोने पड़े। उनकी स्थिति को देखते हुए गाँव के सरपंच ने उन्हें एक स्कूल में रसोइये का काम दिला दिया। हलधर कई वर्षों तक यह काम करते रहे। हालांकि इस दौरान हलधर को अपनी पढ़ाई छूटने का दर्द हमेशा सालता रहा। गाँव में स्कूलों की संख्या बढ़ रही थी। हलधर ने बैंक से एक हजार रुपये का कर्ज़ लेकर एक स्टेशनरी की दुकान खोल ली। शिक्षा के इस सान्निध्य ने उन्हें एक नई ऊर्जा दे दी।


यह वो दौर था, जब घेंस का इलाका लगभग अकाल ग्रस्त था, पर संबलपुरी लोक संस्कृति-परंपरा दालखाई, संपदा आदि से समृद्ध था। हलधर खुद दंड नृत्य (जो कि एक आध्यात्मिक अनुष्ठान है) में सक्रिय रूप से शामिल रहते थे। अपने दल में प्रस्तुत होने वाले गीत ज्यादातर उन्हीं के द्वारा रचे और गाए गए थे। गाँव में होने वाली रामलीला के अवसर पर उनका लंकेश्वरी रूप देखते ही बनता है। एक लोक कलाकार के रूप में लगातार लोकप्रिय हो रहे हलधर नाग स्कूल में काम करते करते बातों में छंद जोड़कर, गाकर विद्यार्थियों और शिक्षकों को सुनाने का अवसर नहीं छोड़ते थे। शशि भूषण मिश्र, डॉ० लक्ष्मी नारयण पाणिग्रही, डॉ० सुभाष मेहेर, अशोक पूजाहारी आदि जैसे सम्मानित लोगों ने उनके ज्ञान और संबलपुरी कोश को समृद्ध करने में विशेष योगदान दिया। हलधर को लेखन विरासत में नहीं मिला था। वह आसपास के वातावरण, संस्कृति, परंपरा के साथ बचपन से अनुभूत और पुराणों से सुनी कथाओं और चरित्रों के प्रभाव को ही अपनी रचनाओं में उतारते थे।


गाँव की 'अभिमन्यु साहित्य संसद' द्वारा आयोजित वार्षिकोत्सव में हलधर का पहला कविता पाठ लोगों के मन को छू गया था। १९९० में संबलपुर की 'आर्ट एंड आर्टिस्ट' संस्था के मुख पत्र में उनकी पहली कविता ढोडो बरगछ (the old banyan tree) प्रकाशित हुई। इसमें बूढ़े बरगद के प्रति गाँव की पीढ़ियों के लगाव को दर्शाया गया था।

अजा पंकजा टिपन अजा जे चिन्हार जनर जने

चढूथिले गछे झुलुथिले दुलि गढा बाएसिया दिने।

(अर्थात दादा परदादा और उनके दादा ,दोस्त ज्ञात जन पेड़ पर झूला करते थे, जब युवा थे )


इस कविता ने अचानक ही हलधर के व्यक्तित्व को सामाजिक आकार दे दिया। प्राकृतिक छवियों के सौंदर्य, पौराणिक कथाओं और जीवन के हर कोण से संबंधित काव्य-महायात्रा का यह शुरुआती दौर था। इन कविताओं ने हलधर को एक आदिवासी दुकानदार के खांचे से निकाल दिया। अपनी कविताओं को भाव के साथ जीने वाले हलधर अब कोसली भाषा के वह कवि बन गए, जिन्हें न सिर्फ़ आसपास के गाँवों में सम्माननीय तरीके से आमंत्रित किया जाने लगा, बल्कि उनकी प्रसिद्धि "लोक कवि रत्न" के नाम से होने लगी। 


हिंदी के अग्रणी आलोचक डॉ० रामचंद्र शुक्ल का कहना है कि "लोक की परिधि के बाहर साहित्य का कोई अस्तित्व नहीं होता और काव्य तो मनुष्य की सर्वोत्तम कलात्मक अभिव्यक्ति है। अपने अस्तित्व, संप्रेषण, आकर्षण, प्रभाव और ग्राह्यता के लिए लोक पर आश्रित है, लोक कृतज्ञ है।"


उनकी ये पंक्तियाँ हलधर के लोक कवि होने को भी दर्शाती हैं।


कवि अपने लेखन में प्रायः अपनी भाषा की सीमा का अतिक्रमण करता है, लेकिन हलधर ऐसा नहीं करते। संत तुलसीदास को अपना गुरु मानने वाले कवि ने उनकी जीवनी पर आधारित काव्य 'रसिया कवि' का सृजन करके लोक-चेतना के स्वरूप को प्रासंगिक किया है। उनके तीन काव्य रामायण पर आधारित हैं। अछिया, तारा मंदोदरी और महासती उर्मिला। वीर सुरेंद्र साय की जीवनी, श्री समलेई और बच्छर काव्य, किंवदंती तथा पश्चिम उड़ीसा की सांस्कृतिक परंपरा पर आधारित महत्वपूर्ण काव्य हैं। विख्यात साहित्यकार सुरेंद्रनाथ ने हलधर नाग के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर उनके समूचे कृतित्व को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता दिलाने के लिए तमाम शोधों के साथ उनकी कविताओं का अँग्रेज़ी में अनुवाद किया, जिसके चार संग्रह 'काव्यांजलि' के नाम से प्रस्तुत हो चुके हैं। संबलपुर कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में हलधर ग्रंथावली-२ को शामिल किया गया है। हलधर की कोसली भाषा की कविताएँ इन दिनों पाँच शोधार्थियों के अनुसंधान का विषय भी हैं। हलधर की कविताओं का कई भाषाओं में अनुवाद हो चुका है। उनकी काव्य कृति काव्यांजलि द्वितीय भाग एवं उनसे जुड़ी सामग्री का हिंदी में अनुवाद करके प्रसिद्ध साहित्यकार और अनुवादक श्री दिनेश कुमार माली जी ने संबलपुरी कोसली भाषा की इस अनूठी कृति को हिंदी भाषा के पाठकों तक पहुँचाने का अमूल्य प्रयास किया है। उड़ीसा में रहते हुए और वहाँ की साहित्य संस्कृति से प्रभावित होकर, खुद ओड़िया सीख कर उन्होंने इसे सार्थक विस्तार दिया है। हिंदी सिनेमा के विख्यात गीतकार गुलज़ार ने वर्चुअल भारत शृंखला में बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म में उनके बारे में कहा है, "जब यह कवि अपने गाँव की जमीं पर चलता है, तो लगता है पूरे ग्लोब पर चलता है और जब यह लोगों से कुछ कहता है, तो लगता है पृथ्वी के हर इंसान से कह रहा है।"

गुलज़ार की लिखी किताब 'ए पोएम ए डे ( a poem a day )' जो देश भर के २७९ कवियों की ३४ भाषाओं में रची कविताओं का संग्रह है। परिचय के पृष्ठों में हलधर की दो कविताओं के साथ शुरू इस किताब के पहले पेज पर गुलज़ार ने संदेश लिखा है, "प्रिय हलधर! आप मेरी किताब के सूर्योदय की तरह हैं।"

पद्मश्री एवं पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित द्विभाषी लेखक (ओड़िया एवं अँग्रेज़ी) लेखक मनोज दास उनके बारे में लिखते हैं, "हलधर नाग के काव्य के अजस्र-स्रोत का प्रवाह अनवरत है, जिसे कोई बाँध नहीं सकता है, काव्य में उनके द्वारा प्रयुक्त अलंकारों का बेहतरीन प्रयोग पाठकों के समक्ष अद्भुत काल्पनिक छवि प्रस्तुत करता है।"

हलधर जी की कविताओं में लोक संस्कृति के प्रमुख तत्व धूमरा और दालखाई समाई हुई है। 'ढोडो बरगछ' में समय की निरंतरता है, तो 'चैतर सकाल' में ध्वनि का माधुर्य। 'अछिया' महाकाव्य में अस्पृश्यता के खिलाफ़ आवाज है, तो 'महासती उर्मिला' में रामायण के उपेक्षित पात्र को सीता से भी श्रेष्ठ बताने का दुस्साहस हलधर नाग जैसे बिरले कवि ही कर सकते हैं। हलधर के २०१६ में पद्मश्री पुरस्कार को लेकर कुछ भ्रामक बातें भी सामने आती हैं। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने अपनी गरीबी का ज़िक्र करते हुए पुरस्कार लेने दिल्ली आने में असमर्थता जताई थी और सरकार से अनुरोध किया था कि उन्हें सम्मान डाक द्वारा भेज दिया जाए, जबकि उन्हें करीब से जानने वाले कुछ और ही दावा करते हैं। उनके मुताबिक पद्मश्री की घोषणा से पहले ही उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की पहल पर उन्हें कलाकार भत्ता दिया जा रहा था। साथ ही पद्मश्री समारोह में शामिल होने के लिए केंद्र सरकार से उन्हें सभी ज़रूरी सुविधाएँ दी गई थीं। उन्हें विमान से दिल्ली लाया गया था। इस दौरान उन्हें उड़ीसा कैडर के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी उषा पढ़ी और अरविंद पढ़ी ने विशेष रूप से सहयोग किया था। हलधर कलाकार भत्ता के तौर पर मिलने वाली राशि का एक बड़ा हिस्सा वन विद्यालय में दान कर देते हैं और सादा जीवन जीते हैं। वह अपने गीतों की तरह ही बहुत मृदु व्यवहार के हैं, जो भी उनसे एक बार मिल लेता है, वह प्रभावित हुए बिना नहीं रह पता। अपनी माटी से हलधर को इतना प्रेम है कि वे किसी भी कीमत पर उसे छोड़ने को तैयार नहीं होते। परिवार में वे और उनकी दूसरी पत्नी मालती साथ हैं, उनकी बेटी नंदिनी अपने ससुराल में रची-बसी है। याददाश्त के धनी हलधर को अपनी लिखी सारी कविताएँ, यहाँ तक कि बीसों महाकाव्य भी कंठस्थ हैं। उन्हें आज भी अपने प्रिय अध्यापक भीमसेन और बंसीधर मिश्र याद हैं। दो सौ से अधिक पौराणिक संतों के नाम एक ही साँस में सुनाने वाले लोक कवि रत्न हलधर की रचनाओं में मौलिकता, नवीनता, प्रकृति प्रेम, आस्था-धर्म आदि मिथकीय पात्रों के साथ ही आधुनिकीकरण का अनूठा मेल है। उन्होंने कोरोना महामारी पर भी काव्य लिखे हैं। कालिया से कविरत्न तक हलधर की साहित्यिक यात्रा में आम आदमी झलकता है। लोगों में प्रचलित तद्भव, देशज शब्दों का व्यवहार, रूढ़ि, रीति दायका, नोक-झोंक, आदि लोकोक्तिओं से कविता में सुंदर प्रयोग, आलंकारिक विन्यास और रसों से परिपूर्ण ख़ास तौर पर वीर रस से भरी देशप्रेम को चरितार्थ करती भावनाओं से हलधर साहित्य समृद्ध है।

परिधान में धोती, बनियान और सदैव नंगे पैर रहने वाले हलधर में गाँधी जी के सिद्धांतों की गहरी झलक मिलती है। जिस तरह गाँधी जी ने अपना सारा जीवन अस्पृश्यता को मिटाने और सामाजिक समरसता को पैदा करने में लगा दिया, ठीक वैसे ही साहित्य के माध्यम से हलधर नाग के 'अछूत' महाकाव्य जिसके केंद्र में शबरी है, गाँधीवादी विचारधारा की झलक साफ देखी जा सकती है।

अछूत शबरी का खाना खाकर हुए अछूत राम 

नाम पड़ा उस दिन पतित पावन राम

(अछूत, हलधर नाग का काव्य संसार, पृ १३०) 


इसी तरह लालटेन कविता में कवि हिंसा का विरोध मुखर है, 

ऊपर लगा निर्मल कांच जल रही 

भीतर हिंसा की लौ ईंधन है धन

इसलिए भभकती ज्यादा लौ

जब तेज हो जाती है आग 

टूट जाता है कांच 

भीतर हिंसा की आग 

दुर्योधन का सत्यानाश। 


अविश्वसनीय ही लगता है, अपने अतिथियों के लिए मुर्गा पकाकर खिलाने के लिए मसाला पीसते, हलवाई की दुकान पर पकौड़ी खरीद कर मुर्रा या बासी पखाल के साथ खाते, त्योहारों में सहभागिता करते या साल में एक बार रथयात्रा के समय अपनी संतुष्टि के लिए रागचना बनाकर बेचते मिल जाने वाला मात्र तीसरी कक्षा पास, यह कवि २२ महाकाव्यों और अनगिनत कविताओं का रचयिता है। हलधर को कतिपय विश्वविद्यालयों ने मानद डॉक्टरेट की उपाधि भी प्रदान की है। वर्ष १९१४ में उड़ीसा साहित्य अकादमी पुरस्कार, १९१७ में लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार। संबलपुरी भाषा में अनेक साहित्यकार उनकी काव्य शैली का अनुकरण कर रहे हैं, जिसके फलस्वरूप उस काव्य को 'हलधर धारा' कहा गया है।


उड़ीसा में कई भाषाएँ बोली जाती हैं, पश्चिम उड़ीसा में कोसली या संबलपुरी। इसकी शब्दावली ध्वनि रूप और व्याकरण की दृष्टि से पूर्वी ओड़िया या मानक ओड़िया से कुछ भिन्न है। इसमें लोक साहित्य कूट कूट कर भरा है। कई साहित्यकार प्राचीन काल से लिख रहे हैं यथा चेतन दस, बलजी मैहर, लक्षण पाती, कपिल महापात्र, सत्यनारायण बेहिदिर, पंडित प्रयाग दत्त जोशी, खगेश्वर सेट्टी, इंद्रमणि साहु, नीलमाधव पाणिग्रही, प्रफुल्ल कुमार त्रिपाठी, प्रेम राम दुबे, हेमचंद्र आचार्य, मंगल चरण विश्वाल, विनोद पसायद, होलबिंद बिसी, निमाई चरण पणिग्रही, चिन्मय कुमार पुजारी, हरेकृष्ण मैहर आदि प्रमुख साहित्यकार हैं। पद्मश्री हलधर नाग ने संबलपुरी भाषा को विश्व में एक अलग पहचान दिलाकर न सिर्फ़ उड़ीसा का बल्कि पूरे भारत का गौरव बढ़ाया है।

हलधर नाग : जीवन परिचय

जन्म 

३१ मार्च १९५०

जन्म-स्थान

घेंस, बरगढ़, ओड़िसा, भारत।

शिक्षा

तीसरी कक्षा

व्यवसाय 

कवि, लोक कलाकार, सामाजिक कार्यकर्ता।

साहित्यिक कृतियाँ

  • लोकगीत

  • सम्पद

  • कृषणगुरु

  • महासती उर्मिला

  • तारा

  • मंदोदरी

  • अछिया

  • बच्छर 

  • श्री समलेई

  • वीर सुरेंद्र साए

  • करमसानी

  • रसिया कवि (तुलसीदास की जीवनी) 

  • प्रेम पाईछन

  • राति

  • चयेत र सकल आएला

  • शबरी

  • माँ

  • सति आबिहा

  • लक्ष्मी पुराण

  • संत कवि भीमभोइ

  • ऋषि कवि गंगाधर

  • भाव

  • सुरूत

  • हलधर ग्रंथावली-१

  • हलधर ग्रंथावली-२ (संबलपुर विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित ,पाठ्यक्रम में सम्मिलित)

सम्मान

  • पद्मश्री

  • लाइफ टाइम एचीवमेंट

  • उड़ीसा साहित्य अकादमी


संदर्भ


  • हलधर नाग का काव्य-संसार, अनुवादक दिनेश कुमार माली, पांडुलिपि प्रकाशक, दिल्ली-११००५१। 

  • रामायण - प्रसंगों पर हलधर नाग के काव्य एवं युगीन विमर्श, अनुसर्जन दिनेश कुमार माली।

  • हलधर नाग से जुड़े कई अनछुए पहलुओं को जानने में सहयोग के लिए प्रसिद्ध अनुवादक एवं लेखक दिनेश कुमार माली जी का विशेष आभार।


लेखक परिचय


अर्चना उपाध्याय 

मैनेजिंग डायरेक्टर (अंतरा सत्व फॉउंडेशन)

डिज़ाइनर (वस्त्र मंत्रालय) 

बुकट्यूबर (अंतरा द बुकशेल्फ)

31 comments:

  1. अद्भुत मैम, गहन आभार व्यक्त करते हैं❤

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका |

      Delete
  2. भारत माता की माटी के लाल पर कमाल का लेख।अभिनंदन।कृपया पुरस्कार वर्ष १९१४ और १९१७ को दुरुस्त कर लें।सादर,

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका ,मई पुनः एडिट का प्रयास करती हूँ |

      Delete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति mam जी उत्कृष्ट समीक्षा के लिए सादर अभिवादन और ढेर सारी शुभकामनाएं 🙏🙏🙏💐💐💐

    ReplyDelete
  4. अर्चना जी, भारत की मिटटी और उसको पूर्णतः समर्पित उसके विलक्षण पुत्र हलधर नाग पर आपका आलेख अत्यंत रोचक और जानकारी पूर्ण है। इस के लिए आपका बहुत आभार और बधाइयाँ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद प्रगति जी |

      Delete
  5. Replies
    1. हार्दिक आभार आपका नंदिनी जी |

      Delete
  6. अर्चना जी, उड़िया कवि हलधर नाग जी पर बहुत बढ़िया आलेख लिखा है आपने। उनके व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं को बख़ूबी समेटा है। आपको धन्यवाद और बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका सरोज जी |

      Delete
  7. Archana ji, I am from Bargarh and my mother tongue is Sambalpuri (Koshli). I have gone through most of the poems of Haldhar Naag. Thanks for such a nice, comprehensive at the same time rich write-up. Posting the link to Global Western Odisha Society and also make sure that your efforts reaches the Poet.
    Santosh Mishra
    Moscow

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका संतोष जी , आपने इस आलेख को पसंद किया और मेरी त्रुटियों को नजरअंदाज किया होगा | हलधर जी की कविताएं जब मैंने सुनी तो भाषा पूरी तरह न समझते हुए भी उनकी मिठास और अपनापन मेरे भीतर घुल गया ,विशेषकर हलधर को चिट्ठी वाली ,अद्भुत छू गई| हलधर जी के व्यक्तित्व को तो जाना ही ,प्रसिद्ध अनुवादक दिनेश माली जी के माधयम से उड़िया साहित्य को जाने का जो अनुभव हुआ उसका तो आनंद ही अलग है | पुनः आभार आपका |

      Delete
  8. अर्चना जी, आपने हलधर नाग जी पर बहुत अच्छा लेख लिखा है। इस लेख के माध्यम से मुझे हलधर नाग जी के जीवन एवं साहित्य के बारे में जानने का अवसर मिला। आपको इस महत्वपूर्ण लेख के लिये बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका दीपक जी |

      Delete
  9. बहुत सुंदर अर्चना जी।
    आपके आलेख के द्वारा आज साहित्य के पन्नो से लुप्त एक सशक्त रचनाकार श्री हलधर नाग जी का साक्षात्कार हुआ। यह आलेख नाग जी के व्यक्तित्व को सामाजिक आकार देता हुआ पूरी कहानी की तरह गढ़ा गया है। पढ़ते पढ़ते चलचित्र के समान आंखों से सामने प्रभास हो रहा था। अति खोज संदर्भित यह लेख नाग जी की कविताओं और लोकसंस्कृति को उजागर कर रहा है। अद्भुत जानकारी आपने इस लेख के माध्यम से परोसी है। सुंदर आलेख के लिए आपका आभार और अनन्त शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत आभार आपका सूर्यकांत जी ,इस लेख के माध्यम से मैंने भी बहुत कुछ सीखा |

      Delete
  10. अर्चना जी आपको एक और बेहतरीन लेख के लिए बहुत बहुत बधाई। इस लेख के माध्यम से उड़िया कवि हलधर नाग जी के रचना संसार और उनके जीवन के महत्वपूर्ण और अनछुए पहलुओं को जानने का अवसर मिला। बहुत आभार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से आभार आभा जी | सचमुच हलधर जी का व्यक्तित्व अनोखा है |

      Delete
  11. ज्ञान वर्धक आलेख। इस आलेख से पूर्व हलधर जी से कोई परिचय ही नहीं था. आपका बहुत आभार इस महत्वपूर्ण जानकारी के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद राकेश जी, मैंने खुद उन्हें लिखते समय ही विस्तार से जाना |

      Delete
  12. हलधर नाग जी ने सिद्ध कर दिया कि सृजन करने वाले कवि के लिए कोई सीमा नहीं है , कोई रुकावट नहीं है। एक बार सृजन का झरना फूट निकले तो बहते बहते महानद बन जाता है । हलधर जी के श्रमसाध्य जीवन एवं सृजन यात्रा को प्रणाम।
    अर्चना जी, आपने इस आलेख पर कमाल की मेहनत की है एवं बेहतरीन तथ्यों का संकलन किया है। आपको धन्यवाद । इस संग्रहणीय लेख के लिए हार्दिक बधाई । 💐💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिलकुल सच कहा आपने हरप्रीत जी ,मैं तो इस झरने में भीग कर भी पूरी तरह उन्हें नहीं जान पाई ,और इच्छा बढ़ गई ,और आलेख के बाद भी मैंने उन्हें खूब पढ़ा | आपकी टिपण्णी ऊर्जा बढ़ाती है \ हार्दिक धन्यवाद |

      Delete
  13. अर्चना मैं इतनी खुश हूँ कि हमने हलधर जी पर लेख का निर्णय लिया और तुमने तुरंत हामी भरी! बहुत शानदार व्यक्तित्व और कृतित्व उनका! गहरा, सधा हुआ आलेख! जियो ❤️!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शार्दुला जी आपको बहुत प्यार ,ये खुशियां और तारीफ आपके साथ की वजह से हैं |

      Delete
  14. काव्य जगत के ऐसे सितारों को ढूँढ कर उन्हें पाठकों तक पहुँचाने के लिए अर्चना जी का आभार | हमने हालदार जी के विषय में सुना था, तस्वीरें भी देखी थी| आज उनके सृजन से परिचित होकर सुखद अनुभव हुआ | आभार अर्चना जी|

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से आपका आभार साक्षी जी , लिखना सार्थक कर दिया आपकी टिपण्णी ने |

      Delete
  15. अप्रतिम,अद्वितीय—चुन -चुन कर ऐसे साहित्यकारों को आज हिंदी प्रेमियों और आने वाली पीढ़ी के लिए संचित कर हिंदी जगत की बहुत बड़ी सेवा की है आपने…एक हिंदी प्रेमी की ओर से नमन🙏🏻🙏🏻

    ReplyDelete

आलेख पढ़ने के लिए चित्र पर क्लिक करें।

कलेंडर जनवरी

Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat
            1वह आदमी उतर गया हृदय में मनुष्य की तरह - विनोद कुमार शुक्ल
2अंतः जगत के शब्द-शिल्पी : जैनेंद्र कुमार 3हिंदी साहित्य के सूर्य - सूरदास 4“कल जिस राह चलेगा जग मैं उसका पहला प्रात हूँ” - गोपालदास नीरज 5काशीनाथ सिंह : काशी का अस्सी या अस्सी का काशी 6पौराणिकता के आधुनिक चितेरे : नरेंद्र कोहली 7समाज की विडंबनाओं का साहित्यकार : उदय प्रकाश 8भारतीय कथा साहित्य का जगमगाता नक्षत्र : आशापूर्णा देवी
9ऐतिहासिक कथाओं के चितेरे लेखक - श्री वृंदावनलाल वर्मा 10आलोचना के लोचन – मधुरेश 11आधुनिक खड़ीबोली के प्रथम कवि और प्रवर्तक : पं० श्रीधर पाठक 12यथार्थवाद के अविस्मरणीय हस्ताक्षर : दूधनाथ सिंह 13बहुत नाम हैं, एक शमशेर भी है 14एक लहर, एक चट्टान, एक आंदोलन : महाश्वेता देवी 15सामाजिक सरोकारों का शायर - कैफ़ी आज़मी
16अभी मृत्यु से दाँव लगाकर समय जीत जाने का क्षण है - अशोक वाजपेयी 17लेखन सम्राट : रांगेय राघव 18हिंदी बालसाहित्य के लोकप्रिय कवि निरंकार देव सेवक 19कोश कला के आचार्य - रामचंद्र वर्मा 20अल्फ़ाज़ के तानों-बानों से ख़्वाब बुनने वाला फ़नकार: जावेद अख़्तर 21हिंदी साहित्य के पितामह - आचार्य शिवपूजन सहाय 22आदि गुरु शंकराचार्य - केरल की कलाड़ी से केदार तक
23हिंदी साहित्य के गौरव स्तंभ : पं० लोचन प्रसाद पांडेय 24हिंदी के देवव्रत - आचार्य चंद्रबलि पांडेय 25काल चिंतन के चिंतक - राजेंद्र अवस्थी 26डाकू से कविवर बनने की अद्भुत गाथा : आदिकवि वाल्मीकि 27कमलेश्वर : हिंदी  साहित्य के दमकते सितारे  28डॉ० विद्यानिवास मिश्र-एक साहित्यिक युग पुरुष 29ममता कालिया : एक साँस में लिखने की आदत!
30साहित्य के अमर दीपस्तंभ : श्री जयशंकर प्रसाद 31ग्रामीण संस्कृति के चितेरे अद्भुत कहानीकार : मिथिलेश्वर          

आचार्य नरेंद्रदेव : भारत में समाजवाद के पितामह

"समाजवाद का सवाल केवल रोटी का सवाल नहीं है। समाजवाद मानव स्वतंत्रता की कुंजी है। समाजवाद ही एक सुखी समाज में संपूर्ण स्वतंत्र मनुष्यत्व...